भुट्टा खाने के बाद पानी पीना चाहिए या नहीं || whether to drink water after eating a corn or not

भुट्टा खाने के बाद पानी पीना चाहिए या नहीं || whether to drink water after eating a corn or not

corn.png

         बार‍िश में  गर्म-गर्म भुट्टा (Corn) खाने का मजा ही कुछ और होता हैं। बारिश की पहली बौछार के साथ ठेलों पर कोयले पर सिक रहे भुट्टे देख जीभ ललचाने लगती है। बार‍िश में भुट्टा खाने की तलब भी बढ़ जाती है। जहां कुछ लोगों को चटनी के साथ भुना भुट्टा खाना पसंद होता है, तो वहीं कुछ लोग बॉईल  किया  हुआ भुट्टा चाव से खाते हैं या  भुना  हुआ  मसाला  लगा भुट्टा  भी  लोग  बड़े  ही  चाव  से  खाते   है । स्वाद तो इसका बेहतरीन होता ही है साथ ही यह हमारी हेल्थ  के  लिए  भी फायदेमंद होता है।

पाचन क्रिया (Digestive Process) पर पड़ता है असर

          कई बार आपने देखा होगा भुट्टा खाने के बाद कई लोग पेट फूलने और दर्द (Stomach pain) की शिकायत करते हैं। ऐसा इसलिए भी हो सकता है क्योंकि अक्सर लोग भुट्टा खाने के बाद पानी पी लेते हैं, जिसका सीधा असर पाचन क्रिया (Digestion Process) पर पड़ता है। भुट्टा खाने के बाद पानी पीने से पाचन क्रिया धीमी (Slow) हो जाती है।

ब्लोटिंग की समस्‍या (Bloating)

          भुट्टा खाने के बाद पानी पीने से मक्के में मौजूद कार्ब्स  और  स्टार्च  पानी से मिल जाते है जिससे पेट में गैस रूक जाती है। जिस वजह से कई बार लोगों को एसिडिटी  , पेट फूलना और गंभीर पेट दर्द (Stomach pain) की शिकायत होती है।

           अब आप सोच रहे होंगे कि भुट्टा खरीदते समय उस पर भुट्टे वाला जो निम्बू  या  मसाला  लगा देता है वो कितना ठीक होता है। हम बताते हैं। स्पेशलिस्ट  मानते हैं कि इसे खाने में कोई बुराई नहीं है। भुट्टे पर नींबू और मसाला लगाकर खाने से सिर्फ इसका स्वाद ही नहीं बढ़ता है बल्कि ये ज्यादा हेल्दी  भी  हो जाता है। इसके अलावा भुट्टे पर मसाला और नींबू लगाकर खाने से ये आसानी से डाइजेस्ट  भी हो जाता है। तो अगली बार जब भी भुट्टा  खाएं तो उसपर नींबू और मसाला जरूर लगवा लें।

कितनी देर बाद पी सकते हैं पानी? When to drink water?

          भुट्टे खाने के बाद पानी न पीने की बात सुनने  के  बाद  आपके माइंड में इस सवाल  का  आना लाजमी है कि आखिर भुट्टा  खाने  के  कितनी देर बाद पानी पीना चाहिए? अगर आप यह सवाल सोच रहे हैं तो बिलकुल  सही है। हम आपको इसका जवाब  दे रहे हैं। भुट्टा खाने के करीब 30 से  45 मिनट पहले और बाद में पानी नहीं पीना चाहिए। जी हां, सही सुन रहे हैं आप। फिर बाद में ही नहीं बल्कि भुट्टा खाने के कुछ देर पहले भी पानी नहीं पीना चाहिए। ऐसा करने से शरीर को कोई साइड  इफ़ेक्ट नही होगा और आप मानसून में होने वाली बीमारियों और इंफेक्शन की चपेट में नहीं आएंगी। इसके अलावा भुट्टा खाते समय ध्यान रखें कि भुट्टा ताजा (Fresh) और गर्म होना चाहिए। अपने सामने ही भुट्टा भुनाकर उसी समय खाएं। रखा हुआ भुट्टा  खाने  से बचें। रखा हुआ भुट्टा खाने से आपको पेट की समस्याएं हो सकती हैं और  हाँ  जब भुट्टे को भूना जाए उसके बाद उसे ठंडा करके नहीं खाना चाहिए। तुरंत उसे खाना  चाहिए।

चलिए  अब  जानते  है  भुट्टा  या  मकई  खाने  के  नुकसान  के  बारे  में :-

         भुट्टे  के फायदे हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत अधिक और नुकसान  बहुत ही कम होते हैं। य‍दि भुट्टे का सेवन कम मात्रा में किया जाता है तो यह हमारे लिए बहुत ही लाभकारी  होता है। यदि ज्‍यादा मात्रा में सेवन  किया  जाए तो इसके भी कुछ नुकसान  हो सकते हैं -

  1. मीठे मकई को कच्‍चे नहीं खाना चाहिए क्‍योंकि इससे दस्‍त (Diarrhea) हो सकता है और यह आंतों के कई विकारों को भी बढ़ा सकता है।
  2. इसके  अलावा  मकई (Bhutta) में फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है। य‍दि आप ज्‍यादा मात्रा में इसका सेवन करते हैं तो अपच, और  साथ  ही  पेट की ऐंठन जैसी समस्‍याओं को बढ़ा सकता है और  तो  और  कुछ लोगों में मकई का ज्‍यादा सेवन करने से गैस, पेट फूलना और सूजन जैसी प्रोब्लेम्स  हो सकती है।  
  3. भुट्टा मधुमेह से ग्रस्‍त लोगों को नकारात्‍मक रूप से प्रभावित कर सकता है क्‍योंकि इसमे कार्बोहाइड्रेट्स (कार्बोहाइड्रेट्स) अधिक मात्रा मे होता है जो रक्‍त शर्करा के स्‍तर को बढ़ा सकता है। इसलिए मधुमेह रोगी को अधिक मात्रा में मकई (Bhutta) का सेवन करने से बचना चाहिए।
  4. जो लोग आहार के रूप में मकई (Bhutta) का उपयोग करते हैं उन्‍हें ऑस्टेओपोरेसिस का खतरा हो सकता है, क्‍योंकि मीठे मकई में कैल्शियम बहुत ही कम क्वांटिटी  मे होता है।
  5. जो लोग अपना वजन (Weight) कम करना चाहते हैं उन्‍हें मकई का ज्‍यादा सेवन नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि यह उनके वजन को और ज्‍यादा बढ़ा  सकता है।
  6. कई बार मकई का सेवन करने से एलर्जी  और त्वचा पर चकत्ते, उल्टी आदि जैसे लक्षण पैदा कर सकता है। इसके अलावा कई लोगों को भी मक्का खाने के बाद अस्थमा  का दौरा भी पड़ जाता है।
  7. मकई कई लोगों के लिए एक मुख्य भोजन है। अगर आप उच्च मात्रा में मक्का का सेवन करते हैं, तो आपको पॅलाग्रा (pellagra)  होने का खतरा रहता है। आपके  बॉडी  में  हुई   विटामिन्स की कमी को पॅलाग्रा  कहते हैं।

Newsletter

Sign up to receive email updates on new recipes.